अश्वगंधा खाएं और अपनी मर्दाना ताक़त को बढ़ाएं – Ashwagandha Ke Fayde jabiye

अश्वगंधा खाएं और अपनी मर्दाना ताक़त को बढ़ाएं – Ashwagandha Ke Fayde jabiye

अश्वगंधा के फायदे और नुकसान – Ashwagandha Ke Fayde Aur Nuksan

हम रोगों से बचाव के लिए कई तरह की अग्रेजी दवाओं का इस्तेमाल करते हैं, जिनसे थोड़े वक्त के लिए में फायदा तो हो जाता है लेकिन लंबे समय तक फायदा नहीं मिल पाता है। अगर हम इसकी जगह देसी जड़ी बूटियां से इलाज करें, तो इससे हमें लंबे समय तक के लिए आराम मिल सकता है। जड़ी-बूटियों में अश्वगंधा भी एक जड़ी है, जो बहुत लोकप्रिय फायदेमंद ( Ashwagandha Benefits In Hindi) और इफेक्टिव है।

अश्वगंधा बहुत लोकप्रिय नाम है आयुर्वेदिक औषधियों में और इसका सदियों से रोगों का इलाज करने में इसतेमाल किया जाता आ रहा है और लोग अश्वगंधा के फायदे ( Ashwagandha Ke Fayde ) भी हासिल कर रहे हैं, क्योंकि अश्वगंधा एक चमत्कारी जड़ी बूटी के रूप में जानी जाती है।

अश्वगंधा के कई फायदे है जैसे शारीरिक कमजोरी दूर करने, यौन शक्ति बढ़ाने, तनाव को दूर करने, चिंता को भगाने जैसे रोगों के लिए खास तौर पर इस्तेमाल किया जाता है और इन रोगों में चमत्कारी फायदे भी नजर आते हैं।

आयुर्वेद के शोधकर्ताओं का मानना है कि अश्वगंधा का नियमित सेवन करने से वयक्ति को घोड़े जैसी ताकत और योग शक्ति मिल सकती है। आप अश्वगंधा के बारे में और जानकारी जानने के लिए आगे बढ़ते रहे और जानिए अश्वगंधा क्या है और अश्वगंधा के फायदे (Ashwagandha Benefits) क्या क्या हो सकते हैं?

अश्वगंधा क्या है – What Is Ashwagandha

अश्वगंधा एक जड़ है, जो औषधि के रूप में इस्तेमाल की जाती है। इसकी जड़ और पत्तों में से घोड़े के पेशाब और पसीने जैसी खराब गंध आती है इसलिए इसका नाम अश्वगंधा ( Ashwagandha) रखा गया है।

अश्वगंधा की जड़ ऊपर से मटमैली दिखती है और यह अंदर से सफेद होती है। वैसे यह कठोर, मोटी या पतली हो सकती है। इसकी लंबाई लगभग 4 इंच से लेकर 8 इंच तक होती है।

अश्वगंधा की जड़ को छाया में सुखाकर इसका उपयोग (Ashwagandha Uses) किया जाता है। यूनानी भाषा में इसे सौदा और सकता कहाजाता है। आधुनिक वैज्ञानिकों के मतानुसार यह एक उत्तम पोषटिक जड़ है, जो खाने में तेज और कड़वी लगती है।

अश्वगंधा के बारे में और विस्तार से जानने के लिए इसे आप आगे बढ़ते रहिए इसमें हम आपको अश्वगंधा के फायदे ( Ashwagandha Ke Fayde ) और इसको कितना और कब खाना चाहिए और इससे होने वाले नुकसान के बारे में भी आपको बताएंगे।

अशवगंध की तासीर – Ashwagandha Ki Taseer

अश्वगंधा की तासीर गर्म होती है। यह शरीर में बहुत ज्यादा गर्मी पैदा करती है इसलिए इसको दूसरी जड़ी बूटियों के साथ मिलाकर खाना चाहिए, जिससे शरीर में गर्मी ज्यादा उत्पन्न ना हो।

अशवगंध कैसे खाना चाहिएAshwagandha Ko Kaise Khaye

अश्वगंधा को चर्ण बनाकर खाना बहुत आसान है इसके चूर्ण को दूध, शहद, पानी या अन्य जड़ी बूटियों के साथ मिलाकर खाया जा सकता है। अश्वगंधा की चाय और कैप्सूल भी आसानी से बाजार में मिल जाते है। इसको भी उपयोग किजा सकता है।

अशवगंध कब खाना चाहिएAshwagandha Ko Kab Khaye

खाने के बाद अश्वगंधा को खाना चाहिए। खाली पेट अश्वगंधा खाने से किसी किसी को नुकसान हो जाता है । अश्वगंधा को रात को सोने से पहले दूध के साथ भी उपयोग किया जा सकता है। वैसे अश्वगंधा को अपने वेद या हकीम से परामर्श लेकर ही खाना चाहिए।

अश्वगंधा के फायदे क्या है? – Ashwagandha Benefits In Hindi

अशवगंध को सही समय पर और सही मात्रा में खया जाए, तो इससे बहुत फायदे (Ashwagandha ke Fayde) मिल सकते हैं। आइए हम आपको बताते हैं कि अश्वगंधा के फायदे क्या है?

1. मर्दाना शक्ति बढ़ाए अश्वगंधा से

अश्वगंधा के चूर्ण को आधा चम्मच सुबह-शाम गर्म दूध से कुछ दिन लेते रहने से गलत कुसंगतियों से होने वाली दुर्बलता दूर होगी मर्दाना शक्ति बढ़ेगी।

आधा चम्मच देशी घी में एक चम्मच अश्वगंधा चूर्ण 2 चम्मच शहद को एक गिलास मिश्री वाले दूध में मिलाकर खाली पेट नियमित इस्तेमाल करें। यौन दुर्बलता, शारीरिक दुर्बलता तो होगी और मर्दाना शक्ति बड़ेगी, इसको तीन से चार महीने इस्तेमाल करते हैं।

2. बुढ़ापा को दूर करे अश्वगंधा से

अश्वगंधा के नियमित खाने ( Ashwagandha khane Ke Fayde) से बुढ़ापा नहीं आता, चिंता और मानसिक तनाव दूर होता है और अच्छी नींद आती है और साथ ही शरीर को ताकत मिलती है।

शरीर पर अश्वगंधा के तेल की मालिश करने से शरीर बलवान होता है और बीमारियां दूर होती है। स्नायु संस्थान बलवान बनता है और रोग निरोधक शक्ति बढ़ती है और नींद भी अच्छी मिलती हैं।

3. दुर्बलता दूर करे अश्वगंधा से

अश्वगंधा और सफेद मूसली को बराबर मात्रा में लें और उसको अच्छी तरह बारीक कूट ले फिर इसको छानकर इसमें पिसी हुई मिश्री मिलाकर एयरटाइट बोतल या डब्बे में भरकर रख लें।

इस मिश्रण में से एक चम्मच सुबह-शाम दूध के साथ सेवन करें 3 महीने तक ( Ashwagandha Benefits For Men) सेवन करने से हर तरह की शारीरिक दुर्बलता दूर होगी।

4. याददाश्त बढ़ाए अश्वगंधा से

लंबी बीमारी, बढ़ती हुई उमर या मानसिक कमजोरी की वजह से याददाश्त कमजोर हो जाती है। आप अपनी याददाश्त को बेहतर बनाने के लिए अश्वगंधा और ब्राह्मी का चूर्ण एक एक चम्मच मिलाकर शहद के साथ सेवन करें।

अश्वगंधा , मुलहठी और शंखपुष्पी को बराबर मात्रा में मिलाकर चूर्ण बना लें और इसमें से आधा चम्मच दूध के साथ रोजाना सुबह सेवन करने से आपकी याददाश्त बढ़ेगी।

5. आधे सिर का दर्द दूर करे अश्वगंधा से

अगर आपके आधे सिर में दर्द हो रहा हो, तो इसको दूर करने के लिए अश्वगंधा की ताजी जड़ों को पानी में दो-तीन घंटे के लिए भिगो दें और फिर इसमें से निकाल कर इसको पत्थर या सिल पर घिसे फिर इसके पेस्ट को अपने माथे पर लगाएं।

एक चम्मच सुबह एक चम्मच शाम को अश्वगंधा के चूर्ण को दूध के साथ सेवन करें। इस घरेलू उपाय से आधे सिर के दर्द में आपको जल्दी आराम मिल जाएगा।

6. बांझपन दूर करे अश्वगंधा से

दो कप पानी में एक चम्मच अश्वगंधा चूर्ण को हल्की आंच पर उबाले और मासिक स्राव के वक्त महिला को पिलाएं इससे ( Ashwagandha Benefits For Women) बहुत जल्दी बांझपन दूर होता है और संतान उत्पत्ति होती है।

गाय के दूध के साथ एक चम्मच अश्वगंधा के चूर्ण को सुबह खिलाने से स्त्री की गर्भधारण करने की संभावनाएं पैदा हो जाती है और साथ में खाने में दूध चावल ज्यादा लेना चाहिए।

7. कमर दर्द ठीक करे अश्वगंधा से

विदारीकंद अश्वगंधा चूर्ण को बराबर मात्रा में मिलाएं और फिर इसमें 2 गुना मिश्री को मिलाकर पीस लें । फिर से बने हुए चूर्ण में से एक चम्मच सुबह, दिन और रात को उपयोग करने से कमर के दर्द में आराम मिल जाएगा।

अश्वगंधा चूर्ण में पिसी शकर को बराबर मात्रा में मिलाकर रोजाना सुबह-शाम गर्म पानी से उपयोग करने करने (Ashwagandha Churna Benefits) से भी कमर दर्द में आराम मिलता है।

8. जोड़ों का दर्द ठीक करे अश्वगंधा से

अश्वगंधा चूर्ण 100 ग्राम और बादाम 100 ग्राम मिलाएं और इसको अच्छी तरह कूटकर पीस लें और पुड़िया बना ले और रोजाना एक पुड़िया गर्म दूध के साथ 30 दिन तक खिलाए जोड़ों के दर्द में रोगी को आराम मिल जाएगा।

अगर बारिश के मौसम में जोड़ों में दर्द ज्यादा हो रहा हो तो अश्वगंधा चूर्ण ( Ashwagandha Powder Benefits) का आधा चम्मच पानी के साथ सुबह-शाम खाने से जोड़ो के दर्द में बहुत जल्दी आराम मिलती हैं।

9. गठिया रोग ठीक करे अश्वगंधा से

200 ग्राम अश्वगंधा जड़ी को दूध में उबालकर साफ कर लें और फिर इसको पीसकर इसमें 200 ग्राम पिसी हुई शकर मिलाएं और चूर्ण को छानकर एक एयरटाइट कांच की बोतल में भरकर रख लें।

बाटला मे रखे चूर्ण में से एक एक चम्मच सुबह और शाम गर्म दूध के साथ गठिया रोगी को पिलाएं। यह रामबाण इलाज है। इससे ( Ashwagandha Ke Fayde) गठिया रोग से भी बहुत जल्दी मुक्ति मिल जाती है।

10. श्वेत प्रदर में फायदेमंद है अश्वगंध

श्वेत प्रदर की समस्या महिलाओं में एक आम बात है। इसमें गुप्तांग से सफेद पानी निकलता रहता है, जिससे शरीर में कमजोरी और थकावट सी महसूस होने लगती है, तो इस समस्या को दूर करने के लिए अश्वगंधा (Ashwagandha Benefits For Women) का उपयोग बहुत फायदेमंद है।

अश्वगंधा का चूर्ण और पिसी मिश्री एक एक चम्मच बराबर मात्रा में मिलाकर एक कप गर्म दूध के साथ सुबह शाम नियमित रूप से एक महीने खिलाने से श्वेत प्रदर की समस्या दूर होती है और शरीर की कमजोरी और थकान भी खत्म हो जाती है।

अश्वगंधा के नुकसान – Ashwagandha Side Effect In Hindi

अश्वगंधा के फायदे ( Ashwagandha Ke Fayde) हैं, तो इसका अत्यधिक सेवध करने से भी नुकसान भी हो सकते हैं, तो आइए अब जानते हैं कि अशवगंध से होने वाले नुकसान क्या है

• अश्वगंधा का सेवन करने से लो बीपी वाले मरीजों को बचना चाहिए बल्कि अपने डॉक्टर से परामर्श के बाद ही इसका उपयोग करें।

• अश्वगंधा का अत्यधिक सेवन करने से डायरिया की समस्या उत्पन्न हो सकती है। इसलिए आवश्यकतानुसार ही इसका सेवन करें।

• गर्भवती महिलाओं को अशवगंध का अत्यधिक सेवन करने से बचना चाहिए व अपने डॉक्टर से परामर्श करके ही उपयोग करें।

• अशवगंध के अत्यधिक सेवन से मतली, जी मिचलाना और उल्टी की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है।

• अश्वगंधा का अत्यधिक सेवन करने से हाथ पैरो में दर्द और थकान की समस्या हो सकती है।

निष्कर्ष – CONCLUSION

आपने इस लेख में अश्वगंधा के बारे में विस्तार से पढ़ा और जाना की अश्वगंधा में कितने ज्यादा औषधि गुण है और यह हमारे स्वास्थ्य को बेहतर बनाने और रोगों से बचाने में कितनी मददगार है। अश्वगंधा को घरेलू नुस्खों के तौर पर हम उपयोग कर सकते हैं लेकिन याद रखें कि किसी दवा के तौर पर या किसी रोग को दूर करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर करें। उसके बाद ही इसको उपयोग करे। आपको हमारा लेख अच्छा लगा हो, तो इसको अपने दोस्तों में शेयर करें।

#Ashwagandha_Ke_Fayde

#Ashwagandha_Khane_Ke_Fayde

#Ashwagandha_Benefits_In_Hindi

#Ashwagandha_Power_Benefits_In_Hindi

#Ashwagandha_Side_Effects

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *