सरसों के तेल के करिश्माई फायदे क्या क्या है? यहां जानिए!

सरसों के तेल के करिश्माई फायदे क्या क्या है? यहां जानिए!

Mustard Oil Benefits In Hindi :- भारत में सरसों के तेल को खाना बनाने के साथ ही कई धार्मिक और सांस्कृतिक गतिविधियों में भी उपयोग किया जाता है। औषधि गुण मौजूद होते हैं सरसों के तेल में इसलिए इसको रोगों को दूर करने के लिए औषधि के तौर पर भी इस्तेमाल किया जाता है ।

सरसों के तेल मे इतने ज्यादा फायदे है ( Mustard oil benefits in hindi ) कि बंगाल, आसाम और उड़ीसा में सरसों के तेल को खाना बनाने में भारी मात्रा में उपयोग किया जाता है। आप कड़ी, दाल , वेज और नॉनवेज डिश बनाने में सरसों के तेल को उपयोग कर सकते हैं और इसके फायदे भी ( Mustard oil health benefits in hindi ) हासिल कर सकते हैं ।

सरसों के तेल के करिश्माई फायदे क्या क्या है? यहां जानिए!

मालिश करने के लिए सरसों का तेल बहुत उपयोगी माना जाता है इसके अलावा मौसम में होने वाले रोग जैसे सर्दी , जुकाम , खांसी , नाक , कान और गले के रोगों में भी सरसों के तेल का उपयोग किया जाता है। सरसों के तेल के फायदे ( Mustard oil benefits in hindi ) जानने के लिए आप आगे बढ़ते रहिए और यहां जानिए कि सरसों का तेल के क्या क्या फायदे हैं और हमारे लिए कितना फायदेमंद है ।

सरसों का तेल क्या है – What Is Mustard Oil (Sarso Ka Tel) In Hindi

सरसों के तेल को अंग्रेजी में Mustard Oil (मस्टर्ड ऑयल) के नाम से जाना जाता है, जिसका वैज्ञानिक नाम ब्रेसिका जुनसा है। सरसों के तेल को अलग-अलग नामों से अलग-अलग भाषाओं में भी जाना जाता है ।

सरसों का एक पौधा होता है, जिस पर पीले रंग के फूल निकलनते है, उसके बाद उसमें छोटे-छोटे बीज निकलते हैं और यह बीच भूरे , पीले और लाल रंग के होते है। इन बीजो से मशीनों के द्वारा सरसों का तेल निकाला जाता है। मुख्य रूप से भारत में सरसोंं के तेल को खाना बनानेे में ज्यादा उपयोग किया जाता है। यह खाने का स्वाद बढ़ाने केेे साथ उसको पौष्टिक भी बनाता है ।

पौष्टिक होने के साथ सरसों का तेल में स्वास्थ्यवर्धक गुण मौजूद होते हैं। यह हमारे शरीर में होने वाली बीमारियों को रोकता है और हमारे स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है। सरसों के तेल के बारे में और अधिक जानने के लिए इस लेख को आप आगे पढ़ते रहे, इसमें आप सरसों के तेल के फायदे ( Sarso ke tel ke fayde ) और उपयोग के बारे मे भी जानेंगे ।

सरसों के तेल के प्रकार – Types Of Mustard Oil In Hindi

सरसों के तेल के फायदे ( Sarson ke tel ke fayde ) हासिल करने के लिए इसके प्रकार का जानना भी जरूरी होता है। यहां हम आपको सरसों का तेल कितने प्रकार का होता हैं? उसे हम आपको बताते हैं :-

1. रिफाईंड तेल

मशीन के द्वारा सरसों की बीज से निकाला गया तेल रिफाइंड तेल कहलाता है। इस तेल को मुख्य रूप से खाना बनाने में उपयोग किया जाता है । यह स्वाद में कड़वा होता है।

2. कच्ची धानी

सरसों का यह कच्ची धानी तेल स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फायदेमंद माना जाता है और इसे अक्सर ग्रहणी खाना बनाने में इसको पसंद करती है, क्योंकि यह सरसों के तेल का शुद्ध रूप होता है ।

3. ग्रेड 2

इस grade-2 सरसों के तेल का इस्तेमाल मसाज थेरेपी में उपयोग ज्यादातर किया जाता है। इस तेल को उपयोग खाना बनाने मे नहीं किया जाता हैं।

सरसों के तेल की तासीर – Mustard Oil (Sarso Tel ) Ki Taseer

सरसों के तेल की तासीर गर्म होती है इसलिए इस तेल की मालिश करना शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है हालांकि सर्दियों में ज्यादा इसका उपयोग किया जाता है पर सरसों के तेल से बना खाना हर मौसम में भी खाना फायदेमंद होता है ।

सरसों के तेल के फायदे क्या है? – Sarso Ke Tel Ke Fayde

सरसों के तेल से होने वाले फायदे ( Sarso tel ke fayde ) तो आपको बहुत सारे मिल जाएंगे। लेकिन हम आपको सरसों के तेल के कुछ खास फायदे बता रहे हैं, जो आपके स्वास्थ्य को बेहतर करने में बहुत ही कारगर साबित हो सकते हैं ।

1. सरसों के तेल मधुमेह में फायदेमंद

भारतीय मधुमेह संस्थान में किए गए अनुसंधान के बाद यह बात सामने आई है कि यदि मधुमेह रोगी सरसों के तेल का नियमित सेवन करें, तो इससे रोगी को ना केवल राहत मिलती है, बल्कि रोग के फैलने को नियंत्रित किया जा सकता है और मौत के मुंह में जाने से रोगी को रोका जा सकता है। इसलिए मधुमेह रोगियों को सरसों का तेल ( Mustard oil benefits) अपने भोजन में इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है ।

2. सरसों के तेल से जोड़ों का दर्द दूर करें

जिन लोगों के जोड़ों में दर्द रहता हो या मेरुदंड के रोगों या लकवा हो ऐसे रोगियों को सरसों के तेल को तलवों पर मालिश ( Mustard oil massage benefits ) करना चाहिए। रोजाना 5 मिनट ऐसे रोग में रोगियों को सरसों के तेल की तलवे पर मालिश करे, इससे बहुत ही जल्दी रोग में आराम मिल जाएगा और धीरे-धीरे जोड़ों का दर्द से छुटकारा मिल सकता है ।

3. त्वचा को निखारे सरसों तेल से

सरसों की तेल को त्वचा को निखारने और सुंदर बनाने के लिए ( Mustard oil benefits for skin ) शरीर पर मालिश करना चाहिए। सरसों का तेल रात को सोते समय अपनी त्वचा पर लगाएं, इससे आपकी शरीर की थकान दूर होगी और शरीर सुंदर और आकर्षक बनेगा साथ ही सरसों के तेल रात को लगा कर सोएंगे, तो मच्छर भी दूर भागेंगे ।

4. दांत का दर्द दूर करें सरसों तेल से

अगर दांत में दर्द हो रहा हो, तो सरसों का तेल इस्तेमाल करना बहुत हीफायदेमंद (Sarson ke tel ke fayde ) होता है। दो बूंद नाक के दोनों नथनो में डालकर सरसों के तेल सूंघने से कुछ देर में दांत का दर्द दूर होता है और आराम मिल जाता है ।

नींबू का रस और सेंधा नमक सरसों के तेल में मिलाकर दांतों पर मंजन करने से दांत का दर्द दूर होता है और दांतों का हिलना भी बंद हो जाता है और इससे दांत भी मजबूत होते हैं ।

5. पैरों की मालिश मैं फायदेमंद सरसों तेल

सरसों के तेल से अपने पैरों में मालिश करना ( Mustard oil massage benefits ) बहुत फायदेमंद होता है। इससे पैरों में स्थिरता बनी रहती है और पैरों का सुन हो जाना भी दूर होता है। कसरत करने से पैरों मे होनेवाली थकान दूर होती है और पैरों का फटना बंद हो जाता है साथ ही पैरों के रोगों से बचाव करने मे मदद मिलती है ।

6. अस्थमा में फायदेमंद है सरसों के तेल

अस्थमा रोगियों के लिए सरसों का तेल बहुत फायदेमंद ( Sarso oil ke fayde ) होता है। अस्थमा रोग में रोगी के सीने में सीने पर सरसों के तेल की मालिश करने से फेफड़ों तक ऑक्सीजन की सप्लाई बढ़ने लगती है। सरसों के तेल में कपूर मिलाकर सीने पर मालिश करने से अस्थमा रोग से छुटकारा पाने मे मदद मिलती है ।

7. सरसों तेल से हार्ड को हेल्दी बनाएं?

अपने दिल को स्वस्थ बनाने और दिल के रोगों से बचाने के लिए सरसों का तेल इस्तेमाल करना बहुत फायदेमंद ( Sarson ke tel ke fayde ) होता है, क्योंकि सरसों के तेल में ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो हार्ट डिजीज की आशंका को 50 फ़ीसदी तक कम कर देते हैं ।

कोलेस्ट्रॉल और लिपिड की मात्रा कम करने वाले गुण सरसों के तेल में भी होते हैं यह बुरे कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करते हैं और अच्छे कोलेस्ट्रॉल का लेबर को बढ़ाने का काम करते हैं, जिससे हार्ट डिजीज का खतरा कम हो जाता है ।

8. कैंसर की रोकथाम करें सरसों तेल से

सरसों के तेल का कैंसर के रोगियों को नियमित उपयोग करना चाहिए, क्योंकि सरसों के तेल में कैंसर रोधी गुण मौजूद होते हैं। एक रिसर्च में यह बात सामने आई है कि सरसों के तेल में कैंसर से लड़ने की ताकत होती हैं। इसमें लाइनोंलेनिक एसिड होता है, जो ओमेगा 3 फैटी एसिड में बदल जाता है और यह पेट और कोलन कैंसर का खतरा कम करता है ।

9. मौसमी बीमारियों मैं फायदेमंद है सरसों तेल

सरसों का तेल मौसम में होने वाली बीमारियां जैसे सर्दी खांसी जुकाम को दूर करने का काम भी करता है लहसुन की कलियां सरसों के तेल में डालकर गर्म करें फिर जब ठंडा हो जाए तो इसे पेट और सीने पर लगाकर मालिश करें इससे सर्दी जुकाम खांसी और कफ की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा ।

10. पित्ती में फायदेमंद है सरसों तेल

शरीर के किसी हिस्से पर पित्ती उछल आए तो उसको दूर करने के लिए सरसों का तेल ( Mustard oil benefits for skin ) बहुत फायदेमंद होता है। इसकी सबसे पहले दवा खा कर पेट को पूरी तरह साफ कर ले, फिर सरसों का तेल प्रभावित जगह पर लगाकर मालिश करें। कुछ देर बाद गर्म पानी से धो ले इससे पित्ती ठीक हो जाती है और रोगी को आराम मिल जाता है ।

11. कान दर्द को ठीक करें सरसों तेल से

जिन लोगों के कान के अंदर सूजन हो जाती है , कान में मैल जम जाता है या कान में दर्द होने लगता है उनको सरसों का तेल इस्तेमाल करना चाहिए से जल्दी फायदा ( Mustard oil benefits in hindi ) मिलता है। इसके लिए सरसों के तेल को हल्का गुनगुना कर्म कर ले । फिर एक दो बूंद कान में डालने से कान का मैल निकल जाएगा, कान की सूजन ठीक हो कि कान का दर्द चले जल्दी आराम मिल जाएगा ।

12. बालों की स्वस्थ बनाएं सरसों तेल से

बाल झड़ते हुए, बाल टूटते हुए, बालों में रूसी हो या बालों से संबंधित कोई समस्या हो, तो सरसों का तेल इस्तेमाल करना फायदेमंद( Mustard oil benefits for hair ) होता है। इसके लिए नहाने से पहले सरसों के तेल की को सर में लगाकर मालिश करें कुछ देर बाद अपने सर को पानी से धो लें। हफ्ते में दो-तीन बार ऐसा करने से बाल घने मजबूत हो जाएंगे झरना अब बंद हो जाएगा और बालों की रूसी भी खत्म हो जाएगी ।

13. उपयोगी मंजन बनाएं सरसों तेल

सरसों के तेल में बारीक नींबू का रस, सेंधा नमक और थोड़ी सी फिटकरी को मिलाकर मंजन बनाएं और इससे सुबह मंजन करेगें, तो दांतों और मसूड़ों की बीमारियां दूर होती है। यह दांत दर्द , दांतों के कीड़े, मसूड़े फूलना दूर कर देता है और दांतों को मजबूत और साफ करता है ।

14. भूख को बढ़ाए सरसों तेल से

जो लोग खाना कम खाते हैं या फिर जिसे भूख नहीं लगती हैं, ऐसे लोगों को अपना खाना सरसों के तेल में बनाना चाहिए, क्योंकि सरसों का तेल पोषक तत्वों से भरपूर होता है। यह पाचन तंत्र को मजबूत करता है और पाचन शक्ति को भी बढ़ाता है। और इसके ( Mustard oil benefits ) इस्तेमाल करने से भूख अच्छी लगती है और खाना भरपूर खाया जाता है ।

15. सरसों तेल से ठंड का प्रभाव कम करें

सर्दी के मौसम में अक्सर लोगों को सर्दी के प्रभाव से नहाने धोने काम करने में दिक्कत महसूस होती है, तो सर्दी के प्रभाव को दूर करने के लिए सरसों के तेल से मालिश करके नहा लें, इससे ठंड कम लगती है और ठंड का प्रभाव कम होता है और उसकी मालिश करने से शरीर हष्ट पुष्ट होता है और त्वचा में निखार आता है ।

सरसों के तेल के उपयोग – Mustard Oil Uses In Hindi

सरसों के तेल को हम कई तरह से उपयोग करके हम सरसों के तेल के फायदे ( Mustard oil benefits in hindi ) हासिल कर सकते हैं, तो आइए हम यहां जानते हैं कि सरसों के तेल के उपयोग क्या क्या है।

• वेज और नॉनवेज खाना बनाने के लिए सरसों के तेल ( Mustard oil ) को उपयोग किया जाता है ।

• आम , नींबू और मिर्च का अचार बनाने में सरसों का तेल को उपयोग किया जाता है ।

• मसाज करने में सरसों का तेल ( Sarso ka tel ) को उपयोग किया जाता है ।

• औषधि के रूप में सर्दी , खांसी , सिर दर्द, जुकम और कान का दर्द जैसे रोगों को दूर करने में सरसों के तेल को उपयोग किया जाता है ।

• बालों को स्वस्थ व सुंदर ( Mustard oil benefits for hair ) और घने बनाने के लिए भी सरसों के तेल को उपयोग किया जाता है ।

• त्वचा ( Mustard oil benefits for skin ) को सुंदर और आकर्षक बनाने और निखारने के लिए भी सरसों के तेल को उपयोग किया जाता है ।

सरसों तेल के नुकसान – Mustard Oil Side Effects In Hindi

सरसों के तेल के फायदे ( Mustard oil benefits in hindi ) हैं, तो इसके कुछ नुकसान भी हैं, तो हम यहां आपको बताएंगे कि सरसों के तेल से होने वाले नुकसान क्या है ?

• अधिक मात्रा में सरसों के तेल का उपयोग ( Mustard oil uses ) किया जाए, तो इससे पेट में मरोड़ और दस्त की शिकायत हो सकती है ।

• गर्भवती महिलाओं को सरसों का तेल इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर ले लेना चाहिए, क्योंकि इसकी तासीर गर्म होती है और इसका नकारात्मक प्रभाव होने वाले शिशु पर पड़ सकता है ।

• अत्यधिक सरसों का तेल का उपयोग ( Mustard oil uses In hindi ) करने से कुछ लोगों को एलर्जी भी हो जाती है, जिससे त्वचा में रूखापन, खुजली या दाने भी हो सकते हैं ।

• यूरिक एसिड की अच्छी मात्रा सरसों के तेल में पाई जाती है। इसलिए जब इसका अत्यधिक मात्रा में सेवन किया जाए, तो दिल व सांस की बीमारियां होने की आशंका बढ़ जाती है ।

निष्कर्ष – CONCLUSION

सरसों के तेल के बारे में आपने विस्तार से पढ़ा और जाना कि यह कितना ज्यादा पौष्टिक और फायदेमंद है, ( Mustard oil benefits in hindi ) तो सरसों के तेल को अपने खाने में इस्तेमाल करें और आप अपने आप को रोगों से बचाएं पर याद रखें किसी रोग के लिए जब सरसों का तेल इस्तेमाल किया जाए, तो अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर लें अन्यथा किसी हानि का खतरा बढ़ सकता है, तो अगर आपको हमारा लेख अच्छा लगा हो, तो इसे अपने दोस्तों में शेयर करें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *